City Post Live
NEWS 24x7

ईद को लेकर प्रशासनिक तैयारी मुकम्मल, उपद्रियों से सख्ती से निपटेगी पुलिस

- Sponsored -

- Sponsored -

-sponsored-

ईद को लेकर प्रशासनिक तैयारी मुकम्मल, उपद्रियों से सख्ती से निपटेगी पुलिस

सिटी पोस्ट लाइव : ईद को लेकर जिले में सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह से चुस्त और दुरुस्त कर दिया गया है। शांतिपूर्ण एवं भयमुक्त वातावरण में ईद मनाने के लिए डीएम व एसपी ने पूरे जिले में मजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारी के साथ थोक में जवानों की प्रतिनियुक्ति की है। डीएम शैलजा शर्मा एवं एसपी राकेश कुमार ने संयुक्त आदेश निकाल कर अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए हैं। ईद के मद्देनजर खुद DM एवं SP दो दिनों से सुरक्षा व्यवस्था को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। इसी कड़ी में कई आवश्यक दिशा निर्देश जारी किये गए हैं। बृहस्पतिवार को जारी DM एवं SP के संयुक्त आदेश में ज़िले के चप्पे-चप्पे पर पैदल गस्ती के अलावे पेट्रोलिंग गस्ती की प्रतिनियुक्ति की गई है जिसमें 51 दंडाधिकारी, 51पुलिस पदाधिकारी एवं 225(1/4) पुलिस जवान रखे गए हैं। वहीं सदर अनुमंडल क्षेत्र के लिए 16 अधिकारी, सिमरी अनुमंडल क्षेत्र के लिए 5 अधिकारियों को सुरक्षित रखा गया है।डीएम ने जिले के संवेदनशील स्थानों पर मजिस्ट्रेट एवं पुलिस अधिकारी के अतिरिक्त सशस्त्र बल एवं लाठी पार्टी की अलग से प्रतिनियुक्ति की है। साथ ही जिला में नियंत्रण कक्ष भी बनाया गया है ।नियंत्रण कक्ष 06478- 223601 एवं प्रभारी नियंत्रण कक्ष का मोबाइल नम्बर 9905631846 भी ज़िला प्रशासन के द्वारा जारी किया गया है। जहां सहरसा सदर एवं सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल क्षेत्र के दोनों SDO, SDPO इस दौरान प्रभार में रहेंगे वहीं मुख्यालय डीएसपी और ADM वरीय प्रभार में रहते हुए ज़िले की विधि व्यवस्था पर नज़र रखेंगे।कल 16 मई को ईद मनाए जाने को लेकर आज ज़िला पदाधिकारी ने अपने कार्यालय कक्ष में पुलिस अधीक्षक के साथ संयुक्त बैठक करते हुए शनिवार को मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों,नवाज स्थलों, संवेदनशील स्थलों पर विधि व्यवस्था को लेकर पदाधिकारियों को चौकस रहते हुए कर्तव्य निर्वहन का आदेश दिया ।इस मौके पर DM ने कहा कि साम्प्रदायिक एवं उपद्रवी तत्वों से सख्ती से निपटा जाएगा। बैठक में ADM, SDO, SDPO एवं मुख्यालय DSP मौजूद रहे। हांलांकि यह यह बताना जरूरी है कि सहरसा में किसी भी पर्व के दौरान कोई बड़ा उत्पात नहीं मचा है और ना ही सामाजिक सौहाद्र में कोई कमी आई है। गंगा-जमुनी तहजीब की इस जिले में दरिया बहती है। भाईचारा, प्रेम और आपसी मिल्लत के झंड़ेदार हैं यहां के हिन्दू और मुस्लिम।

सहरसा से संकेत सिंह की रिपोर्ट

-sponsored-

- Sponsored -

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

-sponsored-

Comments are closed.