City Post Live
NEWS 24x7

अभीतक नहीं सुलझ पाई है एक ही परिवार के 11 लोगों के सामूहिक आत्म-हत्या की गुत्थी

बुराड़ी कांड: छोटे भाई ने रजिस्टर में लिखी थी मौत की स्क्रिप्ट, खाली पेट थे कुछ लोग

-sponsored-

- Sponsored -

-sponsored-

 

सिटी पोस्ट लाईव : दिल्ली के बुराड़ी में मोक्ष की कामना से एक ही परिवार के 11 लोगों की आत्म-हत्या के मामले में कई चौकानेवाले मामले सामने आ रहे हैं. परिवार की सामूहिक आत्महत्या ने देश भर में लोगों को हिलाकर रख दिया था . मामले की जांच में एक के बाद एक कई रहस्यमयी बातें और सबूत सामने आ रहे हैं. ऐसा लग रहा है कि परिवार अंधविश्वास, तंत्र-मंत्र जैसी चीजों पर बहुत अधिक यकीन करता था और उसने पूरी तैयारी के साथ आत्महत्या की. आत्म-हत्या की योजना जिन दो रजिस्टरों में लिखी गई है, उसे छोटे भाई ने लिखी है जो  फर्नीचर की दुकान चलाता था. पुलिस को जाँच पड़ताल के दौरान पता चला है कि  मौत वाली रात बाहर से खाने में 20 रोटी मंगवाई गई थी.लेकिन क्राइम ब्रांच के हाथ ऐसा कोई सबूत नहीं लगा है जिसके आधार पर वह कह सके कि ये हत्या नहीं आत्म-हत्या ही है. सभी 11 शवों का पोस्टमॉर्टम हो गया है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार घर  के 11 लोगों में से कुछ लोग उस रात खाली पेट थे. यानी उस दिन कुछ सदस्य उपवास पर भी हो सकते हैं क्योंकि परिवार में 11 लोग थे और खाने में बाहर से केवल 20 रोटी मंगाई गई थी.

दरअसल भाटिया परिवार महज 15 दिन पहले खुशियों के समंदर में गोता लगा रहा था. लेकिन महज 15 दिनों में आखिर ऐसा क्या हुआ कि पूरा का पूरा परिवार खत्म हो गया. जैसे-जैसे वक्त बीत रहा और नए खुलासे हो रहे हैं, सवालों की फेहरिस्त बढती जा रही है. लिहाजा बेचैनी बढ़ती जा रही है. अभी तक पुलिस की जांच में किसी भी बाहरी या 12वें शख्स की बात सामने नहीं आई है. फोरेंसिक जांच और फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट के मुताबिक घर में किसी बाहरी के होने के न तो सबूत मिले हैं, न ही घरवालों के अलावा किसी और के फिंगरप्रिंट्स मिले हैं. साथ ही इस बात की तस्दीक पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में हो चुकी है कि परिवार में दस लोगों की मौत फंदे से झूलने से हुई.

जांच आगे बढ़ी तो भाटिया परिवार के घर के पीछे 11 पाइप मिले, जिसमें से चार पाइप सीधे हैं और सात मुड़े हुए हैं. दिलचस्प है कि पाइपों की तादाद उतनी ही है जितनी उस घर से लाशें बरामद की गई हैं. दिलचस्प है कि जांच टीम को घर से दो रजिस्टर मिले हैं जिसमें कुछ ऐसी चीजें लिखी हैं जो ढेरों सवाल खड़े करती हैं. रजिस्टर में लिखी एक-एक बातें वारदात से मेल खाती हैं.रजिस्टर में लिखा है कि पट्टियां अच्छे से बांधनी हैं. गौरतलब है कि घर से जितने शव बरामद हुए उनमें से एक को छोड़कर सबकी आंखों पर पट्टियां बंधी थी. रजिस्टर में लिखा है कि सात दिन बाद लगातार पूजा करनी है. कोई घर में आ जाए तो रजिस्टर में लिखा है कि अगले दिन गुरुवार या रविवार को चुनें.

दिलचस्प है कि वारदात रविवार की रात हुई. रजिस्टर में लिखा है कि बेब्बे (दादी) खड़ी नहीं हो सकतीं तो अलग कमरे में लेट सकती हैं. बेब्बे शायद उस बुजुर्ग महिला को कहा गया है जिनकी लाश अलग कमरे में बरामद की गई. रजिस्टर में लिखा गया कि मध्यम रोशनी का प्रयोग करना है. रजिस्टर में लिखा गया है कि मुंह की पट्टी को रूमाल से डबल कर लेना. रजिस्टर में लिखा गया है कि रात्रि 12 से 1 के बीच क्रिया करनी है. प्रशासन ने क्राइम ब्रांच को जो रिपोर्ट सौंपी है उसमें ये कहा गया है कि परिवार बेहद अंधविश्वासी था और तंत्र-मंत्र के चक्कर में था. रिपोर्ट में कहा गया है कि परिवार किसी किताब के आधार पर तंत्र मंत्र कर रहा था.

जब बात अंधविश्वास में जान देने की आई तो जांच टीम ने अपने घोड़े दौड़ाए. अब पुलिस को एक ऐसे बाबा की तलाश है जिसपर परिवार को बहकाने का शक है. सूत्रों की मानें तो पुलिस को मौका-ए-वारदात से बरामद मोबाइल फोन से बाबा के सुराग मिले हैं. शक की सूई घूम फिरकर अंधविश्वास में मोक्ष प्राप्ति और जान देने की ओर जा रही है. लेकिन परिवार के करीबी का दावा है कि ना तो कहीं अंधविश्वास का मामला है और ना ही खुदकुशी का. हत्या है या फिर अंधविश्वास में दी गई जान, हकीकत जांच पूरी होने के बाद ही सामने आएगी.

-sponsored-

- Sponsored -

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

- Sponsored -

Comments are closed.